कात्यायनी माता की आरती Katyayani Mata Ki Aarti

Katyayani Mata Ki Aarti | कात्यायनी माता की आरती – नवरात्रि के छठे दिन कात्यायनी माता की पूजा आराधना की जाती है.

माँ कात्यायनी की स्तुति के लिए हमने कात्यायनी माता की आरती इस पोस्ट में प्रकाशित की है. आप इस आरती के माध्यम से कात्यायनी माता की स्तुति श्रद्धा और भक्ति के साथ करें.

कात्यायनी माता की आरती

जय जय अंबे जय कात्यायनी |
जय जगमाता जग की महारानी ||

बैजनाथ स्थान तुम्हारी |
वहां वरदानी नाम पुकारा ||

कई नाम है कई धाम हैं |
यह स्थान भी तो सुखधाम है ||

हर मंदिर में जोत तुम्हारी |
कही योगेश्वरी महिमा न्यारी ||

हर जगह उत्सव होते रहते |
हर मंदिर में भक्त हैं कहते ||

कात्यायनी रक्षक काया की |
ग्रंथि काटे मोह माया की ||

झूठे मोह से छुड़ानेवाली |
अपना नाम जपनेवाली ||

बृहस्पतिवार को पूजा करियो |
ध्यान कात्यायनी का धरियो ||

हर संकट को दूर करेगी |
भंडारे भरपूर करेगी ||

जो भी माँ को भक्त पुकारे |
कात्यायनी सब कष्ट निवारे ||

Katyayani Mata Ki Aarti

Jay Jay Ambe Jay Katyayani.
Jay Jagmata Jag Ki Maharani.

Baijnath Sthan Tumhari.
Wahan Vardani Naam Pukara.

Kai Naam Hain Kai Dhaam Hain.
Yah Sthan Bhi To Sukhdhaam Hai.

Har Mandir Me Jot Tumhari.
Kahi Yogeshwari Mahima Nyari.

Har Jagah Utsav Hote Rahte.
Har Mandir Me Bhakt Hain Kahte.

Katyayani Rakshak Kaya Ki.
Granthi Kaate Moh Maya Ki.

Jhuthe Moh Se Chhudanewali.
Apna Naam Japnewali.

Brihaspativar Ko Puja Kariyo.
Dhyan Katyayani Ka Dhariyo.

Har Sankat Ko Dur Karegi.
Bhandare Bharpur Karegi.

Jo Bhi Maa Ko Bhakt Pukare.
Katyayani Sab Kasht Niware.

कात्यायनी माता की आरती का महत्व (Importance of Katyayani Mata Ki Aarti)

  • नवरात्रि के छठे दिन कात्यायनी माता की पूजा की जाती है.
  • माँ कात्यायनी की स्तुति के लिए कात्यायनी माता की आरती करना अत्यंत ही शुभ फलदायी होता है.
  • कात्यायनी माता की आरती सच्चे ह्रदय से करके हम माँ कात्यायनी की कृपा पा सकतें हैं.
  • माता कात्यायनी की कृपा से समस्त रोगों, भय आदि से छुटकारा मिल जाता है.

कात्यायनी माता से संबंद्धित कुछ जानकारी

माँ कात्यायनी भी देवी पार्वती की ही रूप है. यही माँ काली और देवी दुर्गा हैं.

माता अत्यंत ही दयालु और कृपालु हैं. अपने भक्तों पर सदा कृपा दृष्टि बनाये रखतीं हैं. माँ कात्यायनी ब्रज मंडल की अधिष्ठात्री देवी हैं.

कात्यायनी माता को किस देवी का रूप माना जाता है?

माँ कात्यायनी को पार्वती और दुर्गा माता का रूप माना जाता है.

नवरात्रि में किस दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है?

नवरात्रि में छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है.

Shailputri Mata Ki Aarti – शैलपुत्री माता की आरती

ब्रह्मचारिणी माता की आरती – Brahmacharini Mata Ki Aarti

चंद्रघंटा माता की आरती – Chandraghanta Mata Ki Aarti

कुष्मांडा माता की आरती | Kushmanda Mata Ki Aarti

स्कंदमाता की आरती Skandmata Ki Aarti

कालरात्रि माता की आरती – Kaalratri Mata Ki Aarti

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.