Durga Chalisa in Hindi Lyrics – दुर्गा चालीसा पाठ महिमा के साथ

Durga Chalisa – इस पोस्ट में हमने दुर्गा चालीसा लिरिक्स का प्रकाशन हिंदी (Durga Chalisa Hindi) और इंग्लिश (Durga Chalisa English Lyrics) में किया है.

साथ ही हमने यहाँ विडियो भी दिया हुआ है.

नवरात्रि, दुर्गा पूजा, दुर्गा माता के जगराते के अलावा अन्य दिनों में भी माँ दुर्गा की आराधना और पूजन के लिए आप इस दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकतें हैं.

माँ दुर्गा के सभी नौ रूपों की अलग अलग आराधना के लिए भी हमने मंत्र, स्तोत्र और आरती का प्रकाशन किया हुआ है.

दुर्गा माता से संबंद्धित सभी प्रकाशनों के लिंक इस पोस्ट में दिए गए हैं. आप उन प्रकाशनों को भी अवस्य ही देखें.

चलिए अब हम सब भक्तिपूर्वक माँ दुर्गा की आराधना के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ (Durga Chalisa Path) आरम्भ करतें हैं. जय माँ दुर्गा.

Durga Chalisa Hindi – दुर्गा चालीसा पाठ

Durga Chalisa Hindi

|| माँ दुर्गा चालीसा ||

नमो नमो दुर्गे सुख करनी |
नमो नमो अम्बे दुःख हरनी ||

निराकार है ज्योति तुम्हारी |
तिहूँ लोक फैली उजियारी ||

शशि ललाट मुख महाविशाला |
नेत्र लाल भृकुटि विकराला ||

रूप मातु को अधिक सुहावे |
दरश करत जन अति सुख पावे ||

तुम संसार शक्ति लय कीना |
पालन हेतु अन्न धन दीना ||

अन्नपूर्णा हुई जग पाला |
तुम ही आदि सुन्दरी बाला ||

प्रलयकाल सब नाशन हारी |
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी ||

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें |
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ||

रूप सरस्वती को तुम धारा |
दे सुबुद्धि ऋषि-मुनिन उबारा ||

धरा रूप नरसिंह को अम्बा |
प्रगट भईं फाड़कर खम्बा ||

रक्षा कर प्रह्लाद बचायो |
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो ||

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं |
श्री नारायण अंग समाहीं ||

क्षीरसिन्धु में करत विलासा |
दयासिन्धु दीजै मन आसा ||

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी |
महिमा अमित न जात बखानी ||

मातंगी अरु धूमावति माता |
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता ||

श्री भैरव तारा जग तारिणी |
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी ||

केहरि वाहन सोह भवानी |
लांगुर वीर चलत अगवानी ||

कर में खप्पर-खड्ग विराजै |
जाको देख काल डर भाजे ||

सोहै अस्त्र और त्रिशूला |
जाते उठत शत्रु हिय शूला ||

नगर कोटि में तुम्हीं विराजत |
तिहुंलोक में डंका बाजत ||

शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे |
रक्तबीज शंखन संहारे ||

महिषासुर नृप अति अभिमानी |
जेहि अघ भार मही अकुलानी ||

रूप कराल कालिका धारा |
सेन सहित तुम तिहि संहारा ||

परी गाढ़ सन्तन पर जब-जब |
भई सहाय मातु तुम तब तब ||

अमरपुरी अरु बासव लोका |
तब महिमा सब रहें अशोका ||

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी |
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी ||

प्रेम भक्ति से जो यश गावै |
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें ||

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई |
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई ||

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी |
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी ||

शंकर आचारज तप कीनो |
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो ||

निशिदिन ध्यान धरो शंकर को |
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको ||

शक्ति रूप को मरम न पायो |
शक्ति गई तब मन पछितायो ||

शरणागत हुई कीर्ति बखानी |
जय जय जय जगदम्ब भवानी ||

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा |
दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा ||

मोको मातु कष्ट अति घेरो |
तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो ||

आशा तृष्णा निपट सतावे |
मोह मदादिक सब विनशावै ||

शत्रु नाश कीजै महारानी |
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी ||

करो कृपा हे मातु दयाला |
ऋद्धि-सिद्धि दे करहु निहाला ||

जब लगि जियउं दया फल पाऊं |
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ||

दुर्गा चालीसा जो नित गावै |
सब सुख भोग परमपद पावै ||

देवीदास शरण निज जानी |
करहु कृपा जगदम्ब भवानी ||

|| दोहा ||

शरणागत रक्षा करे, भक्त रहे निशंक.
मैं आया तेरी शरण में, मातु लीजिये अंक.

चलिए अब हम सब माँ दुर्गा की आरती करतें हैं – ॐ जय अम्बे गौरी आरती | Om Jai Ambe Gauri Aarti

विडियो

माँ दुर्गा चालीसा (Durga Chalisa Hindi) विडियो हमने यहाँ दिया हुआ है. प्ले बटन दबाकर इस विडियो को यहीं देखा जा सकता है.

श्री दुर्गा चालीसा

Baglamukhi Chalisa – माँ बगलामुखी चालीसा (सम्पूर्ण)

Durga Chalisa Lyrics English

Durga Chalisa Lyrics

|| Shri Durga Chalisa ||

Namo Namo Durge sukh karni.
Namo Namo Ambe dukh harni.

Nirakar hai jyoti tumhari.
Tihu lok phaili ujiyari.

Shashi lalat mukh mahavishala.
Netra lal bhrikuti wikrala.

Rup maatu ko adhik suhaawe.
Darash karat jan ati sukh paawe.

Tum sansar shakti lay kina.
Paalan hetu ann dhan dina.

Annpurna hai jag pala.
Tum hi aadi sundari bala.

Pralaykal sab naashan hari.
Tum Gauri Shivshankar nyaari.

Shiv yogi tumhare gun gaawen.
Brahma Vishnu tumhen nit dhyaawe.

Rup Saraswati ko tum dhara.
De subuddhi rishi-munin ubara.

Dhara rup Narsingh ko Amba.
Pragat bhai pharkar khamba.

Raksha kar prahalad bachayo.
Hiranyaksh ko swarg pathayo.

Lakshmi rup dharo jag maahi.
Shri Narayan ang samaahi.

Aur sindhu me karat wilasha.
Dayasindhu dijae man aasa.

Hinglaaj me tumhi Bhawani.
Mahima amit na jaat bakhani.

Maatangi aru Dhumawati Mata.
Bhuvneshwari Bagla sukh data.

Shri bhairav tara jag taarini.
Chinn bhal bhaw dukh niwarini.

Kehari waahan soh bhawani.
Laangur weer chalat agwaani.

Kar me khappar-kharag wiraaje.
Jaako dekh kaal dar bhaaje.

Sohe astra aur trishula.
Jaate uthat shatru hiya shula.

Nagar koti me tumhi wirajat.
Tinhlok me danka baajat.

Shumbh Nishumbh daanaw tum maare.
Rakt beej shankhan sanhaare.

Mahishashur nrip ati abhimani.
Jehi agh bhar mahi akulani.

Rup karal kaalika dhara.
Sen sahit tum tihi sanhara.

Pari gaadh santan pa jab jab.
Bhai sahay maatu tum tab tab.

Amarpuri aru waasaw loka.
Tab mahima sab rahe ashoka.

Jwala me hai jyoti tumhari.
Tumhe sada puje nar-naari.

Prem bhakti se jo yash gaawe.
Dukh daaridra nikat nahi aawen.

Dhyaawe tumhe jo nar man laai.
Janm-maran taako chuti jaai.

Jogi sur muni kahat pukari.
Yog na ho bin shakti tumhari.

Shankar aacharaj tap kino.
Kam aru krodh jiti sab lino.

Nishidin dhyan dharo Shankar ko.
Kah kaal nahi sumiro tumko.

Shakti rup ko maram na paayo.
Shakti gai tab man pachitaayo.

Sharnagat hai kirti bakhani.
Jai Jai Jai Jagdamba Bhawani.

Bhai prasann aadi Jagdamba.
Dai shakti nahi kin bilamba.

Moko maatu kasht ati ghero.
Tum bin kaun hare dukh mero.

Asha trishna nipat satawe.
Moh madadik sab winshaawe.

Shatru naash kije maharani.
Sumiro ekchit tumhe Bhawani.

Karo Kripa he Maatu dayala.
Riddhi-siddhi de karah nihala.

Jab lagi jiyaun daya phal paau.
Tumharo yash mai sada sunaau.

Durga chalisa jo nit gaawe.
Sab sukh bhog parampad paawe.

Devidas sharan nij jaani.
Karah kripa Jagdamba Bhawani.

|| Doha ||

Sharnagat Raksha Kare, Bhakt Rahe Nishank.
Mai Aaya Teri Sharan Me, Maatu Lijiye Ank.

Worship Goddess Durga with this aarti – आरती जग जननी मैं तेरी गाऊं – दुर्गा आरती Aarti Jag Janani Main

Video

Shri Durga Chalisa

How to recite Durga Chalisa Path? – दुर्गा चालीसा पाठ कैसे करें?

Durga
  • नवरात्रि, दुर्गा पूजा, माता के जगराते आदि महत्वपूर्ण अवसरों पर माँ दुर्गा चालीसा का पाठ (Durga Chalisa Path) अवस्य करें.
  • इसके अलावा अन्य दिनों में भी आप माँ दुर्गा की पूजा अर्चना के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करें.
  • प्रातः काल और संध्या काल के समय को दुर्गा चालीसा पाठ के लिए उत्तम माना गया है.
  • आप माँ दुर्गा की प्रतिमा या तस्वीर के सामने पवित्र आसन पर बैठ कर श्री दुर्गा चालीसा का पाठ करें.
  • माँ दुर्गा के मंदिर में जाकर भी दुर्गा चालीसा का पाठ करना उत्तम माना गया है.
  • श्री दुर्गा चालीसा के पाठ करते समय अपने मन को एकाग्र रखें.
  • अपना ध्यान माता के चरणों में लगाए रखें.

दुर्गा चालीसा पाठ का महत्व (Importance of Durga Chalisa Path)

Durga Chalisa Path
  • माँ दुर्गा की आराधना के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ (Durga Chalisa Path) करना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.
  • श्री दुर्गा चालीसा के पाठ से नकारात्मक ऊर्जा विनष्ट होने लगती है.
  • जहाँ माँ दुर्गा की आराधना होती है, दुर्गा चालीसा का भक्तिपूर्वक पाठ होता है. उस जगह के चारों ओर एक सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होने लगता है.
  • दुर्गा चालीसा के पाठ से मनुष्य को आध्यात्मिक शांति का अनुभव होता है.
  • श्री दुर्गा चालीसा पाठ से मनुष्य के आत्मबल में बृद्धि होती है.

आज का यह प्रकाशन हम यहीं समाप्त करतें हैं. आप अपने सुझाव और सलाह कमेंट के माध्यम से दे सकतें हैं.

श्री दुर्गा चालीसा के पाठ के लिए कौन से दिन शुभ हैं?

माँ दुर्गा की आराधना के लिए आप नियमित रूप से रोजाना दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकतें हैं. हम आपको बताना चाहेंगे की चैती दुर्गा पूजा, शारदीय दुर्गा पूजा, चैत्र नवरात्रि, शारदीय नवरात्रि आदि अत्यंत ही महत्वपूर्ण दिवस पर माँ दुर्गा चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही शुभ माना गया है.

माँ दुर्गा से संबंद्धित कुछ अन्य प्रकाशनों की सूचि हमने निचे दी हुई है.

जग जननी जय जय आरती | Jag Janani Jai Jai – Durga Mata Aarti

अम्बे तू है जगदम्बे काली Ambe tu hai Jagdambe Kali Aarti

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva | मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

माँ दुर्गा के नौ रूपों की स्तुति –

Maa Shailputri Mantra : माँ शैलपुत्री मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, प्रार्थना, कवच

Brahmacharini Mantra – ब्रह्मचारिणी माता मंत्र, स्तुति, स्तोत्रम्

Chandraghanta Mantra : चंद्रघंटा माता की स्तुति के लिए मंत्र संग्रह

Kushmanda Mantra : कुष्मांडा माता मंत्र संग्रह

Skandmata : स्कंदमाता ― विवरण, मंत्र, स्तोत्र और आरती

Katyayani Mata : कात्यायनी माता ― विवरण, मंत्र, स्तोत्र और आरती

Kalratri Mantra | कालरात्रि मंत्र ― जाप, ध्यान, प्रार्थना, स्तोत्र, कवच

Mahagauri | महागौरी मंत्र, स्तोत्र, कवच, अन्य धार्मिक जानकारी

Siddhidatri | सिद्धिदात्री माता मंत्र, स्तोत्र, स्तुति, कवच, आरती

अन्य चालीसा –

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.