Kalratri Mantra | कालरात्रि मंत्र ― जाप, ध्यान, प्रार्थना, स्तोत्र, कवच

Kalratri Mantra ― In this post some religious information about Goddess Kalratri has been published along with Goddess Kalratri Mantra, Prarthana, Japa, Dhyan, Stotra and Kavach.

कालरात्रि मंत्र ― इस पोस्ट में कालरात्रि मंत्र, ध्यान मंत्र, जाप मंत्र, प्रार्थना मंत्र, कवच, स्तोत्र के साथ-साथ कालरात्रि माता के बारे में कुछ धार्मिक जानकारी भी प्रकाशित की गई है.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका आप सबके अपने वेबसाइट सोनाटुकु डॉट कॉम पर. कालरात्रि माता दुष्टों और राक्षसों के लिए तो संहारक हैं परन्तु अपने बच्चों और भक्तों के लिए तो अत्यंत ही दयालु हैं.

सबसे पहले हम सब कालरात्रि माता के बारे में कुछ धार्मिक बातों को जान लेतें हैं.

कालरात्रि माता (Goddess Kalratri)

Goddess Kalratri

माँ दुर्गा की सातवीं शक्ति स्वरुप कालरात्रि माता है. नवरात्रि के सातवें दिन कालरात्रि माता की पूजा आराधना की जाती है.

कालरात्रि माता का रूप अत्यंत ही भयानक है. समस्त नकारात्मक शक्तियाँ माता के इस रूप को देखते ही भाग जाती हैं. माता का यह रूप नकारात्मक शक्तियों के लिए विनाशक है. अपने भक्तों के लिए माता का यह रूप अत्यंत ही शुभ और पावन है. कालरात्रि माता को शुभंकारी भी कहा जाता है.

माता अपने भक्तों पर अत्यंत ही दयालु हैं समस्त नकारात्मक शक्तियों से माता अपने भक्तों की रक्षा करतीं हैं.

कालरात्रि माता के शरीर का रंग एक दम काला है. इनकी बालें बिखरी हुईं हैं. इनकी स्वांस से ज्वाला निकलती है. माता के गले में विद्द्युत के सामान चमकने वाली माला है.

माता के तिन नेत्र हैं. इन नेत्रों से विद्दयुत के सामान किरणें निकलती रहतीं हैं. इनका वाहन गदर्भ है. माता की चार भुजा हैं.

कालरात्रि माता से भक्तों को किसी भी प्रकार से भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है. माता कालरात्रि दुष्टों का विनाश करतीं हैं. इनके स्मरण मात्र से समस्त नकारात्मक शक्तियाँ भाग जातीं है.

जो कोई भी सच्चे ह्रदय से कालरात्रि माता की आराधना और स्तुति करता है, माता की कृपा से उसे भय कभी भी नहीं सताता है. उसके आत्मबल में बृद्धि हो जाती है.

कालरात्रि माता की स्तुति मनुष्य को ग्रह बाधाओं से भी रक्षा करती है. शनि ग्रह पर कालरात्रि माता का प्रभाव है.

Kalratri Mantra | कालरात्रि मंत्र

निचे दिए गए कालरात्रि मंत्र के जाप से कालरात्रि माता की आराधना करें.

ॐ देवी कालरात्र्यै नमः॥

कालरात्रि प्रार्थना मंत्र

निचे दिए गए मंत्र के पाठ से कालरात्रि माता से ह्रदय से प्रार्थना करें.

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी॥

वामपादोल्लसल्लोह लताकण्टकभूषणा।
वर्धन मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

Kalratri Stuti Mantra | कालरात्रि स्तुति मंत्र

कालरात्रि माता की स्तुति इस मंत्र के पाठ से करें.

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

कालरात्रि माता ध्यान मंत्र

इस मंत्र के पाठ से कालरात्रि माता का ह्रदय में ध्यान करें.

करालवन्दना घोरां मुक्तकेशी चतुर्भुजाम्।
कालरात्रिम् करालिंका दिव्याम् विद्युतमाला विभूषिताम्॥
दिव्यम् लौहवज्र खड्ग वामोघोर्ध्व कराम्बुजाम्।
अभयम् वरदाम् चैव दक्षिणोध्वाघः पार्णिकाम् मम्॥
महामेघ प्रभाम् श्यामाम् तक्षा चैव गर्दभारूढ़ा।
घोरदंश कारालास्यां पीनोन्नत पयोधराम्॥
सुख पप्रसन्न वदना स्मेरान्न सरोरूहाम्।
एवम् सचियन्तयेत् कालरात्रिम् सर्वकाम् समृध्दिदाम्॥

Kalratri Stotra | कालरात्रि स्तोत्र

कालरात्रि स्तोत्र का पाठ करना मनुष्य के लिए अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.

हीं कालरात्रि श्रीं कराली च क्लीं कल्याणी कलावती।
कालमाता कलिदर्पध्नी कमदीश कुपान्विता॥
कामबीजजपान्दा कमबीजस्वरूपिणी।
कुमतिघ्नी कुलीनर्तिनाशिनी कुल कामिनी॥
क्लीं ह्रीं श्रीं मन्त्र्वर्णेन कालकण्टकघातिनी।
कृपामयी कृपाधारा कृपापारा कृपागमा॥

कालरात्रि कवच मंत्र

इस मंत्र का सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ पाठ करें. कालरात्रि माता आपकी समस्त संकटों से रक्षा करेंगी.

ऊँ क्लीं मे हृदयम् पातु पादौ श्रीकालरात्रि।
ललाटे सततम् पातु तुष्टग्रह निवारिणी॥
रसनाम् पातु कौमारी, भैरवी चक्षुषोर्भम।
कटौ पृष्ठे महेशानी, कर्णोशङ्करभामिनी॥
वर्जितानी तु स्थानाभि यानि च कवचेन हि।
तानि सर्वाणि मे देवीसततंपातु स्तम्भिनी॥

कालरात्रि माता की आरती – Kaalratri Mata Ki Aarti

कालरात्रि माता की आरती इस साईट पर पहले से ही प्रकाशित है. ऊपर दिए गए लिंक पर क्लीक करके आप उस पेज पर जा सकतें हैं.

माँ कालरात्रि के स्वरुप की पूजा नवरात्रि में किस दिन की जाती है?

नवरात्रि के सातवें दिन कालरात्रि माता के स्वरुप की पूजा की जाती है.

किसी भी तरह के सलाह या अपने विचार आप हमें कमेंट के माध्यम से लिख सकतें हैं.

माँ दुर्गा की परम कृपा आप सब पर बनी रहे. जय माँ दुर्गा.

कुछ और प्रकाशन ―

Maa Shailputri Mantra : माँ शैलपुत्री मंत्र, स्तुति, स्तोत्र, प्रार्थना, कवच

Brahmacharini Mantra – ब्रह्मचारिणी माता मंत्र, स्तुति, स्तोत्रम्

Chandraghanta Mantra : चंद्रघंटा माता की स्तुति के लिए मंत्र संग्रह

Kushmanda Mantra : कुष्मांडा माता मंत्र संग्रह

अम्बे तू है जगदम्बे काली Ambe tu hai Jagdambe Kali Aarti

ॐ जय अम्बे गौरी आरती | Om Jai Ambe Gauri Aarti

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva | मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

Durga Chalisa in Hindi Lyrics – दुर्गा चालीसा पाठ

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.