Anant Chaturdashi 2022 – अनन्त चतुर्दशी पूजा कब है?

अवस्य ही आपको यह जानना है की अनन्त चतुर्दशी कब है? (Anant Chaturdashi 2022 Date), अनन्त पूजा कब है? (Anant Puja 2022 Date) तथा अनन्त चतुर्दशी का क्या महत्व है?

इस पोस्ट में हम सब सभी जानकारी को जानेंगे.

नमस्कार, स्वागत है आपका sonatuku.com पर.

भगवान श्री विष्णु के अनन्त रूप को हम सब अनन्त चतुर्दशी के दिन अनन्त पूजा के रूप में पूजन करतें हैं.

इस दिन अनन्त सूत्र को हम सब अपने बांह पर बांधते हैं. अनन्त भगवान की कथा सुनी जाती है. अनन्त भगवान की पूजा की जाती है.

धार्मिक मान्यता है की अनन्त सूत्र बाँधने से और अनन्त भगवान की पूजा आराधना करने से श्री विष्णु भगवान की परम कृपा मनुष्य को प्राप्त होती है.

जीवन में आने वाली बाधाओं का सामना करने का आत्मबिस्वास भगवान श्री विष्णु अपने भक्तों को प्रदान करतें हैं.

शौभाग्य में बृद्धि होती है. जीवन में सुख और शांति आती है.

धार्मिक मान्यता यह भी है की अनन्त चतुर्दशी पूजन, अनन्त सूत्र को श्रद्धापूर्वक अपने बांह पर बाँधने से मनुष्य को जीवन मरण के चक्र से मुक्ति मिलती है और श्री विष्णु भगवान की परम कृपा के फलस्वरूप मोक्ष की प्राप्ति होती है.

तो चलिए अब हम सब जानतें हैं की साल 2022 में अनन्त चतुर्दशी कब है? (Anant Chaturdashi 2022 Date) अनन्त पूजा कब है? (Anant Puja 2022 Date).

अनन्त चतुर्दशी कब है? (Anant Chaturdashi 2022 Date), अनन्त पूजा कब है? (Anant Puja 2022 Date)

Anant Chaturdashi Date, Anant Chaturdashi Kab Hai

भाद्रपद महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनन्त चतुर्दशी या अनन्त पूजा मनाई जाती है.

आप सबकी जानकारी के लिए बता दें की इसी दिन श्री गणेश विसर्जन भी किया जाता है.

साल 2022 में अनन्त चतुर्दशी 09 सितम्बर 2022, दिन शुक्रवार को है. इसी दिन अनन्त पूजा की जायेगी और अनन्त सूत्र को बाँह पर बाँधा जायेगा.

अनन्त चतुर्दशी 2022 तारीख
अनन्त पूजा 2022 तारीख
09 सितम्बर 2022, शुक्रवार
Anant Chaturdashi 2022 Date
Anant Puja 2022 Date
09 September 2022, Friday

Om Jai Jagdish Hare Aarti – ॐ जय जगदीश हरे आरती (With Lyrics)

चलिए अब हम सब भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि की जानकारी प्राप्त करतें हैं.

भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि

भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि को अत्यंत ही शुभ और पवित्र तिथि माना गया है. इसी तिथि को श्री विष्णु भगवान के अनन्त रूप अनन्त भगवान की पूजा की जाती है.

साथ ही इसी तिथि को गणपति विसर्जन भी किया जाना शुभ माना गया है.

निचे टेबल के माध्यम से हमने साल 2022 में भाद्रपद माह शुक्ल पक्ष चतुर्दशी तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी दी हुई है.

आशा है की आप अवस्य ही इससे लाभान्वित होंगे.

भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्दशी तिथि प्रारंभ08 सितम्बर 2022, गुरुवार
09:02 pm
भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्दशी तिथि समाप्त09 सितम्बर 2022, शुक्रवार
06:07 pm

अनन्त चतुर्दशी व्रत कथा

अनन्त पूजा में अनन्त चतुर्दशी की कथा सुनने का भी बहुत अधिक धार्मिक महत्व है. निचे हमने अनन्त चतुर्दशी कथा यूट्यूब विडियो दिया हुआ है. आप प्ले बटन दबाकर श्री अनन्त कथा को सुन सकतें हैं.

श्री अनन्त चतुर्दशी कथा

Importance of Anant Chaturdashi / Anant Puja

अनन्त चतुर्दशी पूजा का महत्व

  • श्री अनन्त चतुर्दशी पूजा भगवान श्री विष्णु के अनन्त रूप की पूजा है.
  • सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्तिपूर्वक श्री विष्णु जी के अनन्त रूप अनन्त महाराज की पूजा करना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी माना गया है.
  • धार्मिक मान्यता है की अनन्त पूजा करने से श्री विष्णु की कृपा प्राप्त होती है.
  • जीवन में आने वाली बाधाओं और संकटों से श्री विष्णु की कृपा से रक्षा होती है.
  • श्री विष्णु की कृपा से जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है.

आज के इस महत्वपूर्ण प्रकाशन को समाप्त करने की इजाजत दीजिये.

सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्तिपूर्वक अनन्त भगवान की पूजा आराधना करें.

अनन्त चतुर्दशी कब मनाई जाती है?

भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनन्त चतुर्दशी का त्यौहार मनाया जाता है.

अनन्त चतुर्दशी में किस भगवान की पूजा की जाती है?

श्री अनन्त चतुर्दशी में भगवान श्री विष्णु की अनन्त रूप अनन्त महाराज की पूजा की जाती है.

कुछ और महत्वपूर्ण प्रकाशन –

धनतेरस कब है? धनतेरस तारीख और शुभ मुहूर्त, पूरी जानकारी

छोटी दिवाली कब है? तारीख, महत्व, Choti Diwali date

Diwali Date | दिवाली कब है? – तारीख, शुभ मुहूर्त, महत्व

भाई दूज कब है? तारीख, शुभ मुहूर्त, महत्व, कहानी

Chhath Puja date – छठ पूजा कब है? तारीख और अन्य जानकारी

भगवान श्री विष्णु भगवान की आराधना से संबंद्धित सम्पूर्ण एकादशी व्रत की तिथि और महत्व को जानें.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.