चैत्र नवरात्रि 2023 पाँचवां दिन स्कंदमाता पूजा

चैत्र नवरात्रि 2023 पांचवां दिन स्कंदमाता पूजा (Chaitra Navratri 2023 5th day Skandmata Puja) – नवरात्रि के पांचवें दिन माँ स्कंदमाता की पूजा आराधना की जाती है.

नवरात्रि व्रत करने वालों के लिए यह पूजा बहुत ही महत्वपूर्ण होती है.

नवरात्रि की शुरुआत कलश स्थापना से होती है. इसी दिन नवरात्रि की पहली पूजा माँ दुर्गा के प्रथम शक्ति रूप शैलपुत्री माता की पूजा की जाती है. नवरात्रि के दुसरे दिन ब्रह्मचारिणी माता की पूजा, तीसरे दिन चंद्रघंटा माता की पूजा, चौथे दिन कुष्मांडा माता की पूजा तथा पांचवे दिन स्कंदमाता की पूजा की जाती है.

अपने भक्तों की समस्त शुभ इच्छाओं को पूर्ण करने वाली माँ स्कंदमाता की सच्चे ह्रदय से आराधना करें.

चैत्र नवरात्रि 2023 पांचवां दिन स्कंदमाता पूजा (Chaitra Navratri 2023 5th day Skandmata Puja)

चैत्र नवरात्रि 2022 पाँचवां दिन स्कंदमाता पूजा

माह चैत्र के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को चैत्र नवरात्रि के पांचवें दिन माँ स्कंदमाता की पूजा और आराधना की जाती है.

साल 2023 में चैत्र नवरात्रि की पांचवीं पूजा माँ स्कंदमाता पूजा 26 मार्च 2023, दिन रविवार को की जायेगी.

चैत्र नवरात्रि 2023 पांचवां दिन स्कंदमाता पूजा 26 मार्च 2023, रविवार
Chaitra Navratri 2023 5th day Skandmata Puja 26 March 2023, Sunday

स्कंदमाता की आरती Skandmata Ki Aarti

Importance of Skandmata Puja

  • नवरात्रि के चौथे दिन माँ दुर्गा की पांचवीं शक्ति रूप माँ स्कंदमाता की पूजा करने का विधान है.
  • माँ स्कंदमाता की इस दिन पूजा करने से मनुष्य को असीम आध्यात्मिक शांति की प्राप्ति होती है.
  • यह दिन अत्यंत ही शुभ और पावन दिन होता है.
  • स्कंदमाता की पूजा करने से बालरूप भगवान स्कन्द की भी पूजा अपने आप ही हो जाती है.
  • स्कन्द भगवान श्री कार्तिकेय को कहा जाता है.

चैत्र नवरात्रि 2023 षष्ठी कात्यायनी पूजा

नवरात्रि के किस दिन माँ स्कंदमाता की पूजा करने का विधान है?

नवरात्रि के पांचवें दिन माँ स्कंदमाता की पूजा की जाती है.

इस पोस्ट से संबंधित अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिखें. कमेंट बॉक्स में जय माँ दुर्गे अवस्य लिखें.

ॐ जय अम्बे गौरी आरती | Om Jai Ambe Gauri Aarti

जग जननी जय जय आरती | Jag Janani Jai Jai – Durga Mata Aarti

आरती जग जननी मैं तेरी गाऊं – दुर्गा आरती Aarti Jag Janani Main

अम्बे तू है जगदम्बे काली Ambe tu hai Jagdambe Kali Aarti

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva | मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.