You are currently viewing Dev Uthani Ekadashi 2024 – देव उठनी एकादशी देवोत्थान एकादशी

Dev Uthani Ekadashi 2024 – देव उठनी एकादशी देवोत्थान एकादशी

Dev Uthani Ekadashi 2024 Date and Time, Devuthani Ekadashi 2024, Devotthan Ekadashi 2024, Devutthan Ekadashi 2024.

देव उठनी एकादशी 2024 – इस पोस्ट में हम देव उठनी एकादशी कब है? देव उठनी एकादशी 2024 तारीख और शुभ मुहूर्त, देव उठनी एकादशी व्रत को देवउठनी एकादशी, देवोत्थान एकादशी, देवुत्थान एकादशी, प्रबोधनी एकादशी भी कहतें हैं, के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे.

नमस्कार, आपका स्वागत है sonatuku.com में.

भगवान श्री विष्णु को समर्पित देव उठनी एकादशी व्रत की तारीख और समय के साथ साथ हम सब देव उठनी एकादशी क्यों मनाई जाती है? देवउठनी एकादशी व्रत का महत्व आदि के बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे.

आप सबको बता दें की देव उठनी एकादशी के दिन ही तुलसी विवाह उत्सव (Tulsi Vivah) मनाया जाता है.

तो चलिए सबसे पहले हम सब देव उठनी एकादशी (Dev Uthani Ekadashi) के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

Dev Uthani Ekadashi Vrat – Devuthani Ekadashi | Devotthan Ekadashi | देव उठनी एकादशी | देवउठनी एकादशी | देवोत्थान एकादशी | देवुत्थान एकदशी

श्री विष्णु भगवान के चातुर्मास योग निद्रा से जागने को हम सब देव उठनी एकादशी के नाम से जानतें हैं.

जैसा की आप सबको पता है की भगवान श्री विष्णु देवशयनी एकादशी को चार महीने के लिए योग निंद्रा में चले जातें हैं. इन चार महीनों को चातुर्मास कहतें हैं.

चातुर्मास योग निंद्रा से भगवान श्री विष्णु कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को जागतें हैं.

भगवान श्री विष्णु के जागने के कारण ही इस एकादशी तिथि को देव उठनी एकादशी या देवोत्थान एकादशी के नाम से पुकारा जाता है.

जैसा की आप सब लोगों को पता ही है की देवशयनी एकादशी पर भगवान श्री विष्णु के योग निंद्रा में चले जाने पर चातुर्मास में कोई भी शुभ कार्य शादी-व्याह, और अन्य मांगलिक कार्य नहीं किया जातें हैं.

देव उठनी एकादशी पर भगवान श्री विष्णु के जागने के पश्चात सभी मांगलिक कार्य फिर से शुरू हो जातें हैं.

देव उठनी एकादशी से शादी-विवाह और अन्य मांगलिक कार्य फिर से किये जा सकतें हैं.

प्रत्येक वर्ष कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को देव उठनी एकादशी जिसे देवुत्थान या देवोत्थान एकदशी कहा जाता है, मनाई जाती है.

Dev Uthani Ekadashi 2024 Date देवउठनी एकादशी कब है?

देवोत्थान एकादशी

जैसा की मैंने आप लोगों को ऊपर बता दिया है की देव उठनी एकादशी का व्रत कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है.

इस साल कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि 11 नवम्बर 2024, सोमवार से प्रारंभ होकर 12 नवम्बर 2024, दिन मंगलवार को समाप्त हो रही है.

धार्मिक गणना के अनुसार इस वर्ष देव उठनी एकादशी व्रत 12 नवम्बर 2024, दिन मंगलवार को मनाई जायेगी.

देव उठनी एकादशी 202412 नवम्बर 2024, मंगलवार
Dev Uthani Ekadashi 2024 Date12 November 2024, Tuesday

Ekadashi Aarti – एकादशी व्रत की आरती

अब हम कार्तिक शुक्ल एकादशी तिथि के प्रारम्भ और समाप्त होने के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी के बारे में जानकारी

कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी को ही देवोत्थान एकादशी मनाई जाती है. इस कारण से हम सबको कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि के बारे में जानकारी होना अत्यंत ही आवस्यक है.

कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि प्रारंभ11 नवम्बर 2024, सोमवार
06:46 pm
कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि समाप्त12 नवम्बर 2024, मंगलवार
04:04 pm

तो चलिए अब हम देवउठनी एकादशी व्रत के पारण के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

देव उठनी एकादशी व्रत का पारण समय

जो भक्त देव उठनी एकादशी का व्रत रखेंगे उनके लिए पारण समय निचे टेबल में दिया जा रहा है. यह सबसे शुभ समय है पारण के लिए.

देव उठनी एकादशी पारण समय13 नवम्बर 2024, बुधवार
06:42 am से 08:51 am तक

पारण तिथि के दिन द्वादशी तिथि समाप्त होने का समय सायं 01:01 pm

Importance of Dev uthani Ekadasi | देव उठनी एकादशी का महत्व

  • हमारे हिन्दू धर्म में देव उठनी एकादशी का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है.
  • देव उठनी एकादशी के दिन ही भगवान श्री विष्णु योग निद्रा से जागतें हैं.
  • इस दिन से भगवान श्री विष्णु के सयन का चातुर्मास समाप्त होता है.
  • देव उठनी एकादशी के दिन से ही सभी प्रकार के मांगलिक कार्य शादी-विवाह आदि प्रारंभ होतें हैं.
  • देव उठनी एकादशी के दिन ही तुलसी विवाह उत्सव मनाया जाता है.
  • देवोत्थान एकादशी का व्रत करना बहुत ही शुभ फलदायक होता है.
  • देवउठनी एकादशी का व्रत करने से भगवान श्री विष्णु की परम कृपा मनुष्य को प्राप्त होती है.
  • जीवन के समस्त सुखों का भोग करके विष्णु भक्त मोक्ष को प्राप्त करता है.

आज के इस पोस्ट में बस इतना ही. आशा है की आप सब श्री विष्णु जी के भक्तों को देव उठनी एकादशी 2024 (Dev Uthani Ekadashi 2024) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में प्राप्त हो गयी होगी.

इस साईट पर सभी त्योहारों के बारे में जानकारी प्रकाशित की जा रही है. इस साईट को बुकमार्क करके रख लें, ताकि आपको सही और विश्वसनीय जानकारी प्राप्त हो सके.

आप अपने विचार हमें कमेंट के माध्यम से लिख सकतें हैं. साथ ही आप किसी भी प्रकार के सुझाव या सलाह के लिए हमसे ईमेल के माध्यम से भी संपर्क कर सकतें हैं.

हमारे ईमेल पता जानने के लिए आप हमारा contact us पेज देखें.

कुछ और जानकारी

देव उठनी एकादशी कब मनाई जाती है?

देव उठनी एकादशी प्रत्येक वर्ष कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है.

2024 में देव उठनी या देवोत्थान एकादशी व्रत कब है?

इस साल यानी की 2024 में देव उठनी एकादशी का व्रत 12 नवम्बर 2024, मंगलवार को है.

देव उठनी एकादशी को और किन नामों से जाना जाता है?

देव उठनी एकादशी को देवोत्थान एकादशी, देवुत्थान एकादशी, देवउठनी एकादशी, प्रबोधनी एकादशी आदि अनेक नामों से जाना जाता है.

देवउठनी एकादशी क्यों मनाई जाती है?

भगवान श्री विष्णु चातुर्मास योग निद्रा में सयन करने के पश्चात कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि को जागतें हैं. इस दिन से ही सारे मांगलिक कार्य पुनः आरम्भ हो जातें हैं. भगवान श्री विष्णु के जागने के उपलक्ष्य को हम सब देव उठनी एकादशी के रूप में मनाते हैं.

आप सभी श्री विष्णु भगवान के भक्तों को देव उठनी एकादशी की सोनाटुकु परिवार की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं.

भगवान श्री विष्णु आपकी समस्त शुभ मनोकामना पूर्ण करें.

हमारे कुछ अन्य प्रकाशन की सूचि निचे दी गयी है. सम्पूर्ण प्रकाशन की सूचि देखने के लिए आप हमारे केटेगरी का चुनाव कर सकतें हैं.

Holi Kab Hai? होली कब है? सभी जानकारी

हनुमान जयंती कब है? Hanuman Jayanti Date Time puja vidhi

शिवरात्रि – महाशिवरात्रि कब है? Mahashivratri Date – पूजा विधि

Ram Navami Date – राम नवमी कब है? तारीख और शुभ मुहूर्त

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.

Leave a Reply