Hariyali Teej 2022 Date | हरियाली तीज कब है? तारीख, महत्व

इस पोस्ट में आज हम हरियाली तीज कब है? हरियाली तीज 2022 तारीख | Hariyali Teej 2022 date, हरियाली तीज का महत्व तथा हरियाली तीज से संबंधित कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे.

नमस्कार, स्वागत है आपका sonatuku.com पर. हरियाली तीज महादेव शिव और माता पार्वती को समर्पित एक बहुत ही महत्वपूर्ण उत्सव है.

हरियाली तीज में मुख्य रूप से महिलाएं उपवास रखतीं हैं और महादेव शिव और माता पार्वती की आराधना और स्तुति करती हैं.

आप सबको बता दें की हरियाली तीज का उत्सव मुख्य रूप से बिहार, झारखण्ड, राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है.

हरियाली तीज के अलावा अन्य तीज हैं – कजरी तीज, हरतालिका तीज, अखा तीज और गणगौर तीज.

अपने सुखी वैवाहिक जीवन की प्रार्थना के लिए किया जाने वाला हरियाली तीज का व्रत और पूजन विवाहित महिलाओं के लिए बहुत अधिक महत्व रखता है.

चलिए अब हम सब साल 2022 में हरियाली तीज कब है? (Hariyali teej 2022 date) के बारे में जानकारी प्राप्त करतें हैं.

Hariyali Teej 2022 Date | हरियाली तीज कब है?

हरियाली तीज का उत्सव प्रत्येक वर्ष श्रावण महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को मनाई जाती है. आप सबको बता दें की हरियाली तीज के दो दिन बाद नाग पंचमी (Nag Panchami) का त्यौहार मनाया जाता है.

साल 2022 में हरियाली तीज का त्यौहार 31 जुलाई 2022, दिन रविवार को है.

हरियाली तीज 2022 तारीख31 जुलाई 2022, रविवार
Hariyali Teej 2022 date31 July 2022, Sunday

चलिए अब हम सब सावन महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि के बारे में जानकारी प्राप्त करतें हैं.

श्रावण शुक्ल पक्ष तृतीय तिथि की जानकारी

हरियाली तीज का उत्सव श्रावन महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को ही मनाई जाती है. इस कारण से हमने सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी यहाँ दी हुई है.

श्रावण शुक्ल पक्ष तृतीय तिथि प्रारंभ31 जुलाई 2022, रविवार
02:59 am
श्रावण शुक्ल पक्ष तृतीय तिथि समाप्त01 अगस्त 2022, सोमवार
04:18 am

रक्षा बंधन की जानकारी – Raksha Bandhan date – रक्षा बंधन कब है? Rakhi Kab Hai?

Importance of Hariyali Teej | हरियाली तीज का महत्व

  • हरियाली तीज का उत्सव महादेव शिव और माता पार्वती की आराधना और स्तुति का एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण उत्सव है.
  • चूँकि हरियाली तीज का उत्सव सावन महीने में मनाया जाता है और सावन महीने को महादेव शिव के सबसे प्रिय महीने में गिना जाता है.
  • इस कारण से सावन महीने में मनाये जाने के कारण हरियाली तीज का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है.
  • हरियाली तीज का उत्सव महादेव शिव और माता पार्वती के पुनर्मिलन के प्रतिक के रूप में मनाया जाता है.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार विवाहित स्त्रियों द्वारा हरियाली तीज का व्रत करने और महादेव शिव और माता पार्वती की पूजा सच्चे ह्रदय से करने से सुखी वैवाहिक जीवन की प्राप्ति होती है.
  • पति की आयु में बृद्धि होती है.
  • जीवन में सुख और शान्ति आती है.
  • इस दिन झुला झूलने की भी परम्परा है.
  • हरियाली तीज में सिंधारा भेंट करने की भी परम्परा है.
  • हरियाली तीज को श्रावण तीज, सिंधारा तीज और छोटी तीज के नाम से भी जाना जाता है.

आज के इस पोस्ट से आपको जरुर कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई होगी. आप कमेंट बॉक्स में अपने विचार लिख सकतें हैं.

महादेव शिव से संबंद्धित कुछ महत्वपूर्ण प्रकाशनों की सूचि हमने निचे दी हुई है.

शंकर भगवान की आरती – Shankar Bhagwan Ki Aarti

Shiv Chalisa : शिव चालीसा हिंदी में पाठ करने के लिए सबसे बेस्ट

Om Jai Shiv Omkara Aarti | ॐ जय शिव ओमकारा आरती

Sheesh Gang Ardhang Parvati शीश गंग अर्द्धांग पार्वती (शिव भजन)

Shiv Gayatri Mantra श्री शिव गायत्री मंत्र – अत्यंत शक्तिशाली शिव मंत्र

Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम – महादेव शिव की करें स्तुति

Dwadash Jyotirling Stotram | द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम्

कुछ अन्य महत्वपूर्ण त्योहारों की जानकारी –

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.