Holika Dahan 2023 – होलिका दहन 2023 तारीख और महत्व 🔥🔥

Holika Dahan 2023 – In this post we will get information about Holika Dahan festival. When is Holika Dahan? Holika Dahan 2023 date, auspicious time and importance of Holika Dahan.

होलिका दहन 2023 – इस पोस्ट में हम होलिका दहन के बारे में जानकारी दे रहें हैं. होलिका दहन कब है? होलिका दहन 2023 तारीख और शुभ मुहूर्त तथा होलिका दहन का महत्व.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर. चलिए आज हम होलिका दहन के बारे में चर्चा कर लेतें हैं.

होली त्यौहार के एक दिन पहले होलिका दहन का त्यौहार मनाया जाता है. इस दिन मुख्य रूप से होलिका का प्रतीकात्मक रूप से दहन किया जाता है.

जानिये Holi Kab Hai? के बारे में जानकारी.

हमारे देश में धार्मिक रूप से होलिका दहन का बहुत अधिक महत्व है. सम्पूर्ण भारत में लगभग प्रत्येक जगह पर होली की पूर्व संध्या पर होलिका दहन किया जाता है.

होलिका दहन बुराई पर सच्चाई और नकारात्मकता पर सकारात्मकता की विजय का प्रतिक है.

होलिका दहन को छोटी होली भी कहा जाता है.

चलिए अब हम सब होलिका दहन 2023 में कब है? (Holika Dahan 2023) के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

होलिका दहन कब है? (Holika Dahan 2023 Date)

आप सबको बता दें की फाल्गुन महीने की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से लेकर पूर्णिमा तिथि तक के समय को होलाष्टक कहा जाता है.

फाल्गुन महीने की पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन किया जाता है. इसके अगले दिन रंगों वाली होली खेली जाती है.

साल 2023 में होलिका दहन का त्यौहार 07 मार्च 2023, दिन मंगलवार को मनाया जाएगा.

होलिका दहन 2023 तारीख07 मार्च 2023, मंगलवार
Holika Dahan 2023 Date07 March 2023, Tuesday

चलिए अब हम होलिका दहन के शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

Also visit – Holi Date, Muhurt, Importance

होलिकादहन 2023 शुभ मुहूर्त

होलिकादहन के लिए शुभ मुहूर्त की गणना के लिए बहुत से नियमों को देखा जाता है. हम इस संबंद्ध में विस्तार से चर्चा नहीं कर रहें हैं.

पहले नियम के अनुसार उस दिन भद्रा नहीं होनी चाहिए. और दुसरे नियम के अनुसार पूर्णिमा प्रदोष व्यापनी होनी चाहिए.

इसके अलावा भी अन्य कई नियमों के अनुसार होलिकादहन का शुभ मुहूर्त निकाला जाता है.

निचे टेबल में हमने होलिकादहन 2023 का समय दिया हुआ है.

होलिकादहन 2023 मुहूर्त07 मार्च 2023, मंगलवार
05:54 pm से 06:09 pm तक

होलिकादहन की कथा (Holikadahan Katha)

आप सबको होलिकादहन की धार्मिक कथा अवस्य ही पता होगी. फिर भी हम यहाँ संक्षिप्त रूप में होलिका दहन की कथा बता रहें हैं.

दानवराज हिरण्यकश्यप खुद को इश्वर समझने लगा था. वह भगवान श्री विष्णु का घोर बिरोधी था. वह लोगों को श्री विष्णु की आराधना छोड़कर खुद की आराधना करने को कहता था.

हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रहलाद भगवान श्री विष्णु का अनन्य भक्त था. वह हमेशा ही श्री विष्णु का नाम स्मरण करता रहता था. इससे उसके पिता हिरण्यकश्यप अत्यंत क्रोधित हो गए.

उसने कई उपायों के माध्यम से प्रहलाद को समझाना चाहा. परन्तु प्रहलाद अपनी श्री विष्णु की भक्ति पर अडिग रहा.

अंत में हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को प्रहलाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ जाए. होलिका को यह वरदान था की अग्नि उसे जला नहीं सकती है.

होलिका ने ऐसा ही किया. परन्तु भगवान श्री विष्णु की कृपा से प्रहलाद को कुछ नही हुआ और होलिका जल कर भष्म हो गयी.

भक्त प्रहलाद के सकुशल बच जाने की ख़ुशी में हम सब प्रत्येक वर्ष होलिका दहन का उत्सव मनाते हैं.

होलिका दहन का महत्व (Importance of Holika Dahan)

  • होलिका दहन एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण और धार्मिक उत्सव है.
  • यह बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतिक है.
  • होलिका दहन का उत्सव नकारात्मक शक्तियों पर सकारात्मक शक्ति की विजय का प्रतिक है.
  • होलिका दहन के उत्सव से यह पता चलता है की अगर भक्ति में शक्ति है तो स्वयं भगवान अपने भक्त की रक्षा करने आतें हैं.
  • यह उत्सव इस बात का प्रतिक है की नकारात्मक शक्तियां कभी भी सच्चाई और अच्छाई पर विजय प्राप्त नहीं कर सकती है.

होलिका दहन से संबंद्धित कुछ और जानकारी

सम्पूर्ण सकारात्मक भाव के साथ होलिका दहन का उत्सव मनाना चाहिए. श्री विष्णु की आराधना करें.

होलिका दहन कब मनायी जाता है?

होलिका दहन फाल्गुन महीने की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रख कर ज्योतिष शुभ मुहूर्त निकालते हैं जैसे की उस दिन भद्रा नहीं हो, साथ ही पूर्णिमा प्रदोष काल व्यापिनी होनी चाहिए. और जानकारी के लिए सोनाटुकु साईट पर जाएँ.

आज के इस पोस्ट में बस इतना ही. हमें आशा है की आप सबको इस पोस्ट के माध्यम से होलिका दहन से संबंद्धित जानकारी प्राप्त हुई होगी.

कृपया अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिखें. आपके सकारात्मक विचार से हमें बहुत प्रेरणा मिलती है.

सोनाटुकु परिवार की तरफ से आप सबको होली की हार्दिक शुभकामनाएं. हैप्पी होली.

कुछ और प्रकाशन –

Ram Navami Date – राम नवमी कब है? तारीख और शुभ मुहूर्त

हनुमान जयंती कब है? Hanuman Jayanti Date Time puja vidhi

हिरण्यकश्यप के बारे में जानकारी विकिपीडिया से.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.