Puri Ratha Yatra 2023 – जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा 2023

Jagannatha Puri Ratha Yatra 2023जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा 2023 – आज के इस पोस्ट में हम जगन्नाथ रथ यात्रा से संबंद्धित जानकारी प्राप्त करेंगे.

इस पोस्ट में हम जानेंगे की जगन्नाथ रथ यात्रा कब है? जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा की तारीख, जगन्नाथ रथ यात्रा का महत्व, साथ ही अन्य कई धार्मिक जानकारी.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर.

जगन्नाथ रथ यात्रा एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण और पवित्र उत्सव है. देश विदेश के लाखों श्रद्धालु इस महान उत्सव के उपलक्ष्य में जगन्नाथ भगवान के धाम पुरी में आतें हैं और श्रद्धा और भक्ति के साथ इस रथ यात्रा में सम्मिलित होतें हैं.

हम आपको बता दें की श्री जगन्नाथ रथ यात्रा का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है. जगन्नाथ धाम पुरी में तो श्री जगन्नाथ रथ यात्रा बहुत ही भव्य तरीके से निकाली जाती है.

देश के अन्य भागों में भी श्री जगन्नाथ रथ यात्रा अत्यंत ही श्रद्धा और भक्ति के साथ निकाली जाती है.

चलिए अब हम सब साल 2023 में जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा कब है? (Jagannatha Puri Ratha Yatra 2023 Date) के बारे में जानकारी प्राप्त करतें हैं.

Jagannatha Puri Ratha Yatra 2023 Date | जगन्नाथ रथ यात्रा कब है?

Jagannatha Puri Ratha Yatra
Jagannatha Puri Ratha Yatra

श्री जगन्नाथ रथ यात्रा प्रत्येक वर्ष आषाढ़ महीने की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को आयोजित की जाती है.

इस साल यानी की 2023 में श्री जगन्नाथ रथ यात्रा 20 जून 2023, दिन मंगलवार को आयोजित की जायेगी.

श्री जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा 2023 तारीख20 जून 2023, मंगलवार
Shri Jagannatha Puri Ratha Yatra 2023 Date20 June 2023, Tuesday

अब हम आषाढ़ महीने की शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी प्राप्त करतें हैं.

आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीय तिथि की जानकारी

चूँकि श्री जगन्नाथ रथ यात्रा आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष द्वितीय तिथि को आरम्भ होती है. इस कारण से हमने यहाँ आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीय तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी दी हुई है.

आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीय तिथि प्रारंभ19 जून 2023, सोमवार
11:25 am
आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीय तिथि समाप्त20 जून 2023, मंगलवार
01:07 pm

Religious information about Shri Jagannath Puri Rath Yatra | श्री जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा से समबंद्धित कुछ धार्मिक जानकारी

भगवान श्री जगन्नाथ जो की श्री विष्णु भगवान के ही रूप हैं. अपने भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के साथ भारत के ओड़िशा राज्य के पुरी में विराजते हैं.

पुरी में भगवान श्री जगन्नाथ का प्राचीन, भव्य और आलोकिक मंदिर है. आप सबको बता दें की जगन्नाथ पुरी मंदिर चार धाम के मंदिरों में से एक है.

हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में कम से कम एक बार चार धाम यात्रा अवस्य करनी चाहिये.

श्री जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए लकड़ी के अत्यंत ही विशाल और भव्य रथ बनाए जातें हैं. इस यात्रा में तिन रथ बनाए जातें हैं.

इन रथों के पहिये भी लकड़ी के ही होतें हैं. इन्हें रस्सी के सहारे भक्त जन खींचतें हैं.

इस रथ यात्रा के लिए देश विदेश से लाखों श्रद्धालु प्रत्येक वर्ष पुरी जगन्नाथ धाम आतें हैं.

भगवान श्री विष्णु के भक्तों और वैष्णव जनों के लिए यह यात्रा एक बहुत ही पवित्र और महत्वपूर्ण उत्सव है.

श्री जगन्नाथ रथ यात्रा में भगवान श्री जगन्नाथ, श्री बलभद्र और श्री सुभद्रा जी की मूर्तियों को जगन्नाथ मंदिर से निकाल कर रथ पर स्थापित किया जाता है.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार श्री जगन्नाथ अपने भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के साथ गुंडीचा माता मंदिर जातें हैं.

वहां से वे आठवें दिन जगन्नाथ मंदिर लौटते हैं. लौटती यात्रा को बहुदा यात्रा या घुरती रथ यात्रा कहा जाता है.

भगवान श्री जगन्नाथ देवशयनी एकादशी से ठीक पहले अपने धाम जगन्नाथ मंदिर में विराजित हो जातें हैं.

यह श्री जगन्नाथ रथ यात्रा सभी जगह समान परंपरा के अनुसार निकाली जाती है.

जगन्नाथ रथ यात्रा का महत्व (Importance of Shri Jagannatha Ratha Yatra)

  • श्री जगन्नाथ रथ यात्रा एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण और पवित्र उत्सव है.
  • भगवान श्री विष्णु के भक्तों और वैष्णव जनों के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण उत्सव है.
  • श्री जगन्नाथ रथ यात्रा में लाखों श्रद्धालु आतें हैं और इस आयोजन में भाग लेतें हैं.
  • इस कारण से श्री जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा को विश्व के महत्वपूर्ण आयोजनों में से एक माना जाता है.
  • श्री जगन्नाथ मंदिर देश के चार धामों के मंदिर में शामिल है.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस यात्रा में शामिल होने मात्र से ही श्री विष्णु की परम कृपा की प्राप्ति हो जाती है.
  • उस मनुष्य को श्री विष्णु की कृपा से मोक्ष की प्राप्ति होती है.
  • उसका यह मनुष्य जीवन सफल हो जाता है.
  • श्री जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए अत्यंत विशाल रथ लकड़ी से बनाए जातें हैं.
  • ये रथ प्रत्येक वर्ष बनाये जातें हैं.

आज के इस अंक में बस इतना ही.

अगर आप कुछ और इस पोस्ट में सम्मिलित करवाना चाहतें हैं तो हमें ईमेल पर संपर्क करें.

अगर आप अपने विचार व्यक्त करने की इच्छा रखतें हैं तो कमेंट बॉक्स में लिखें.

प्रेम और भक्ति के साथ बोलें – जय जगन्नाथ.

भगवान श्री जगन्नाथ की परम कृपा आप सब पर हमेशा बनी रहे.

कुछ अन्य महत्वपूर्ण प्रकाशनों की सूचि –

धनतेरस कब है? धनतेरस तारीख और शुभ मुहूर्त, पूरी जानकारी

Diwali | दिवाली – तारीख, शुभ मुहूर्त, महत्व

हनुमान जयंती Hanuman Jayanti Date Time puja vidhi

Chhath Puja – छठ पूजा तारीख और अन्य जानकारी

जगन्नाथ मंदिर कहाँ स्थित है?

श्री जगन्नाथ मंदिर भारत के ओड़िशा राज्य के पुरी में स्थित है.

जगन्नाथ रथ यात्रा कब आयोजित की जाती है?

श्री जगन्नाथ रथ यात्रा प्रत्येक वर्ष आषाढ़ महीने की शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि को आयोजित की जाती है.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.