Kokila Vrat 2023 Date कोकिला व्रत कब है?

Kokila Vrat 2023 – इस पोस्ट में हम कोकिला व्रत के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे. कोकिला व्रत कब है? कोकिला व्रत 2023 तारीख तथा कोकिला व्रत का महत्व.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर.

कोकिला व्रत महादेव शिव और माता सती को समर्पित एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण व्रत है. इस व्रत को मुख्यतः महिलाओं द्वारा ही किया जाता है.

इस व्रत में कोयल को माता सती के रूप में मान कर पूजा अर्चना की जाती है. मिट्टी से कोयल की प्रतिमा बनाकर उसकी पूजा की जाती है.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कोकिला व्रत को श्रद्धा और भक्तिपूर्वक करने से अखंड शौभाग्य की प्राप्ति होती है.

चलिए अब हम सब साल 2023 में कोकिला व्रत कब है? (Kokila Vrat 2023 date) के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

Kokila Vrat 2023 Date कोकिला व्रत कब है?

Kokila Vrat Date

कोकिला व्रत प्रत्येक वर्ष आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. बहुत से जगहों पर जिस वर्ष आषाढ़ मास अधिक मास में भी हो अर्थात आषाढ़ मास लगातार दो बार आये. उस वर्ष कोकिला व्रत किया जाता है.

आप सबको बता दें की उस वर्ष भी कोकिला व्रत अधिक मास में नहीं करके साधारण आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि को किया जाता है.

वैसे अधिकतर जगहों पर कोकिला व्रत प्रत्येक वर्ष आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि को श्रद्धा और भक्तिपूर्वक किया जाता है.

साल 2023 में कोकिला व्रत 02 जुलाई 2023, दिन रविवार को किया जायेगा.

कोकिला व्रत 2023 तारीख02 जुलाई 2023, रविवार
Kokila Vrat 2023 date02 July 2023, Sunday

चलिए अब हम सब आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

आषाढ़ पूर्णिमा तिथि की जानकारी

जैसा की आप सब लोगों को बताया जा चूका है की कोकिला व्रत आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि को की जाती है. इस कारण से हमने आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी निचे टेबल में दी हुई है.

आषाढ़ पूर्णिमा तिथि प्रारंभ02 जुलाई 2023, रविवार
08:21 pm
आषाढ़ पूर्णिमा तिथि समाप्त03 जुलाई 2023, सोमवार
05:08 pm

Importance of Kokila Vrat | कोकिला व्रत का महत्व

  • कोकिला व्रत माता सती और महादेव शिव को समर्पित एक अत्यंत ही शुभ और महत्वपूर्ण व्रत है.
  • इस व्रत को मुख्य रूप से महिलायें करतीं हैं.
  • कोकिला व्रत में कोयल को माता सती के रूप में मानकर पूजा अर्चना की जाती है.
  • कोयल की प्रतिमा मिट्टी से बनाई जाती है और इसकी पूजा की जाती है.
  • माता सती और महादेव शिव की भी भक्तिपूर्वक पूजा अर्चना की जाती है.
  • ऐसी धार्मिक मान्यता है की कोकिला व्रत को सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ करने से महिला को अखंड शौभाग्य की प्राप्ति होती है.
  • उसकी पति की आयु में बृद्धि होती है.
  • जीवन में सुख और शांति आती है.

आज के इस पोस्ट में बस इतना ही.

आप सब अपने विचार और सुझाव हमें कमेंट बॉक्स में अवस्य लिखें.

कुछ और महत्वपूर्ण प्रकाशनों को अवस्य देखें –

शंकर भगवान की आरती – Shankar Bhagwan Ki Aarti

Om Jai Shiv Omkara Aarti | ॐ जय शिव ओमकारा आरती

Sheesh Gang Ardhang Parvati शीश गंग अर्द्धांग पार्वती (शिव भजन)

Mahagauri | महागौरी मंत्र, स्तोत्र, कवच, अन्य धार्मिक जानकारी

आरती जग जननी मैं तेरी गाऊं – दुर्गा आरती Aarti Jag Janani Main

कोकिला व्रत कब किया जाता है?

आषाढ़ महीने की पूर्णिमा तिथि को कोकिला व्रत किया जाता है.

कोकिला व्रत में किसका पूजन किया जाता है?

कोकिला व्रत में माता सती और महादेव शिव का पूजन किया जाता है. इस व्रत में कोयल की प्रतिमा मिट्टी से बनाई जाती है और इस कोयल की प्रतिमा की पूजा की जाती है.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.