Vat Savitri Vrat 2023 वट सावित्री व्रत कब है?

Vat Savitri Vrat 2023 – इस पोस्ट में हम जानेंगे वट सावित्री व्रत कब है? वट सावित्री व्रत 2023 तारीख तथा वट सावित्री व्रत का महत्व. इसके अलावा वट सावित्री व्रत से संबंद्धित कुछ धार्मिक जानकारी.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर. वट सावित्री व्रत का विवाहित सुहागिन महिलाओं के लिए बहुत अधिक धार्मिक महत्व है.

सुहागिन महिलायें अपनी पति की आयु, कुशलता तथा अपनी सास, ससुर और ससुराल की कुशलता और खुशहाली के लिए वट सावित्री का व्रत करतीं हैं.

हमारे धार्मिक ग्रंथो में भी वट सावित्री व्रत की महिमा का वर्णन किया गया है. वट सावित्री व्रत की कथा सावित्री और सत्यवान से जुड़ी हुई है.

वट सावित्री त्यौहार में वट बृक्ष (बरगद बृक्ष) की पूजा की जाती है. सावित्री सत्यवान की कथा सुनी जाती है.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बरगद बृक्ष में त्रिदेव श्री ब्रह्मा, श्री विष्णु और श्री महेश (शिव) का वास माना गया है.

वट बृक्ष के निचे पूजन, कथा श्रवण आदि से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है. सौभाग्य में बृद्धि होती है. वट बृक्ष को दीर्घायु का प्रतिक मन गया है. हमारे देश में वट बृक्ष का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है.

चलिए अब हम सब साल 2023 में वट सावित्री व्रत कब है? (Vat Savitri Vrat 2023) के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

वट सावित्री व्रत कब मनाई जाती है?

हमारे देश में वट सावित्री व्रत दो भिन्न दिनों में मनाने की परंपरा है. देश के अलग अलग भागों में यह दो भिन्न दिनों में मनाई जाती है.

उत्तर भारतीय राज्यों जैसे की उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली आदि में वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ महीने की कृष्ण पक्ष अमावस्या तिथि को मनाई जाती है.

वहीँ महाराष्ट्र, गुजरात तथा अन्य दक्षिण भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ महीने की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है.

इस तरह से उत्तर भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत दक्षिण भारतीय राज्यों की तुलना में 15 दिन पहले मनाई जाती है.

आप सबको बता दें की सभी जगह वट सावित्री व्रत का समान महत्व है.

Vat Savitri Vrat 2023 वट सावित्री व्रत कब है? वट सावित्री व्रत 2023

Vat Savitri

जैसा की मैंने आप लोगों को बताया की वट सावित्री व्रत उत्तर भारतीय राज्यों में ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष अमावस्या तिथि को और दक्षिण भारतीय राज्यों में ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. इसे वहां वट पूर्णिमा व्रत के नाम से भी जाना जाता है.

इस तरह से साल 2023 में वट सावित्री व्रत उत्तर भारतीय राज्यों में 19 मई 2023, दिन शुक्रवार को मनाई जायेगी.

वट सावित्री व्रत 2023 तारीख (उत्तर भारतीय राज्य)19 मई 2023, शुक्रवार
Vat Savitri Vrat 2023 Date (North Indian States)19 May 2023, Friday

ठीक इसी तरह दक्षिण भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत 03 जून 2023, दिन शनिवार को मनाई जायेगी.

वट सावित्री व्रत 2023 तारीख (दक्षिण भारतीय राज्य)03 जून 2023, शनिवार
Vat Savitri Vrat 2023 Date (South Indian States)03 June 2023, Saturday

वट सावित्री व्रत का महत्व (Importance of Vat Savitri Vrat)

  • वट सावित्री व्रत एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है.
  • हमारे देश में वट सावित्री व्रत का बहुत अधिक धार्मिक महत्व है.
  • यह त्यौहार हमारे समाज में स्त्री के महत्व को दर्शाता है.
  • वट सावित्री व्रत स्त्री के पतिव्रत धर्म और सतीत्व को महता प्रदान करता है.
  • वट सावित्री व्रत प्रकृति से जुड़ा हुआ त्यौहार है.
  • यह त्यौहार वट बृक्ष की महता को दर्शाता है.
  • वट सावित्री व्रत हमारे हिन्दू धर्म की संस्कृति और महत्व को परिभाषित करता है.
  • वट सावित्री व्रत के महत्व का वर्णन हमारे पौराणिक ग्रंथों में भी दिया हुआ है.
  • यह व्रत सावित्री और सत्यवान से जुड़ा हुआ है.
  • यह व्रत दर्शाता है की एक स्त्री के पतिव्रत धर्म और सतीत्व के आगे मृत्यु के देवता यमराज को भी झुकना पड़ता है.
  • वट सावित्री व्रत एक स्त्री के ह्रदय में अपने पति और ससुराल के लिए जो स्थान है उसके महत्व को दर्शाता है.

आज के इस पोस्ट में बस इतना है. अगर आपके कोई सवाल हैं तो आप हमें निचे कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं.

साथ ही अगर आप कोई विचार इस दुनिया से साझा करना चाहतें हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखें. अच्छे विचारों को हम अपने साईट पर प्रकाशित करतें हैं.

आप सबसे निवेदन है की कृपया अगर आप कमेंट प्रकाशित करवाना चाहतें हैं तो कृप्या वेबसाइट वाले जगह को खाली छोड़ दें.

उत्तर भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत कब मनाई जाती है?

उत्तर भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ महीने की कृष्ण पक्ष अमावस्या तिथि को मनाई जाती है. सम्पूर्ण जानकारी सोनाटुकु डॉट कॉम पर दी गई है.

दक्षिण भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत कब मनाई जाती है?

दक्षिण भारतीय राज्यों में वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ महीने की शुक्ल पक्ष पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. इसे वट पूर्णिमा व्रत के नाम से भी जाना जाता है.

कुछ अन्य प्रकाशन –

Dhanteras Date, Muhurt, Meaning – Dhantrayodashi

Karwa Chauth Date करवा चौथ तारीख और महत्व

Kojagari Puja Date – Kojagra Purnima

Chhath Puja – Date and Time : Chhath Parv

Deepawali – Diwali Date, Muhurt

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.