Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम – महादेव शिव की करें स्तुति

Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम – महादेव शिव की आराधना और स्तुति के लिए बिल्वाष्टकम स्तोत्र का पाठ करना अत्यंत ही शुभ और मनोरथ पूर्ण करने वाला होता है.

आप सबको बता दें की महादेव शिव को बिल्वपत्र अत्यंत ही प्रिय है. जो कोई भी सच्ची श्रद्धा और भक्ति के साथ महादेव शिव को बिल्वपत्र अर्पित करता है. वह मनुष्य महादेव शिव का अत्यंत ही प्रिय बन जाता है. महादेव शिव सदैव उस भक्त पर अपनी कृपा दृष्टि रखतें हैं.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर. महादेव शिव की आराधना और स्तुति के लिए बिल्वपत्र की महिमा का वर्णन बिल्वाष्टकम में किया गया है. शिव भक्त को बिल्वाष्टकम स्तोत्र का पाठ अवस्य करना ही चाहिए. साथ ही महादेव शिव को नियमित रूप से बिल्वपत्र अर्पित करना चाहिए.

महादेव शिव के बारह ज्योतिर्लिंग हैं. इन बारह ज्योतिर्लिंग की एक साथ स्तुति करने के लिए आप Dwadash Jyotirling Stotram | द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम् का पाठ भक्तिपूर्वक कर सकतें हैं.

तो चलिए हम सब महादेव शिव को प्रसन्न करने और उनकी परम कृपा की प्राप्ति के लिए बिल्वाष्टकम (Bilwashtakam Stotra) का पाठ आरंभ करतें हैं. जय महादेव.

Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम | Bilvashtakam

Bilwashtakam

|| बिल्वाष्टकम ||

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रियायुधं ।
त्रिजन्म पापसंहारम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

त्रिशाखैः बिल्वपत्रैश्च अच्चिद्रैः कोमलैः शुभैः ।
तवपूजां करिष्यामि ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

कोटि कन्या महादानं तिलपर्वत कोटयः ।
काञ्चनं क्षीलदानेन ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

काशीक्षेत्र निवासं च कालभैरव दर्शनं ।
प्रयागे माधवं दृष्ट्वा ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

इन्दुवारे व्रतं स्थित्वा निराहारो महेश्वराः ।
नक्तं हौष्यामि देवेश ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

रामलिङ्ग प्रतिष्ठा च वैवाहिक कृतं तधा ।
तटाकानिच सन्धानम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

अखण्ड बिल्वपत्रं च आयुतं शिवपूजनं ।
कृतं नाम सहस्रेण ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

उमया सहदेवेश नन्दि वाहनमेव च ।
भस्मलेपन सर्वाङ्गम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

सालग्रामेषु विप्राणां तटाकं दशकूपयोः ।
यज्नकोटि सहस्रस्च ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

दन्ति कोटि सहस्त्रेशु अश्वमेध शतक्रतौ ।
कोटिकन्या महादानम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

बिल्वाणां दर्शनं पुण्यं स्पर्शनं पापनाशनं ।
अघोर पापसंहारम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

सहस्रवेद पाटेषु ब्रह्मस्तापन मुच्यते ।
अनेकव्रत कोटीनाम् ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

अन्नदान सहस्त्रेशु सहस्रोप नयनं तधा ।
अनेक जन्मपापानि ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

बिल्वस्तोत्रमिदं पुण्यं यः पठेश्शिव सन्निधौ ।
शिवलोकमवाप्नोति ऐकबिल्वं शिवार्पणं ।।

Bilvashtakam Audio

भगवान शिव भोलेनाथ शंकर की स्तुति करें शंकर भगवान की आरती – Shankar Bhagwan Ki Aarti के माध्यम से.

Bilwashtakam Lyrics | Bilvashtakam with Lyrics

|| Bilwashtakam ||

Tridalam trigunakaram trinetram cha triyayudham.
Trijanmapapasamharam ekabilvam shivarpanam.

Trishakhaih bilvapatraishcha hyachchidraih komalaih shubhaih.
Tavavapujam karishhyami ekabilvam shivarpanam.

Koti kanya maha danam tila parvata kotayah.
Kanchanam sheela danena ekabilvam shivarpanam.

Kashikshetranivasam cha kalabhairavadarshanam.
Prayagamadhavam druishtva ekabilvam shivarpanam.

Induvare vratam sthitwa niraharo maheshwara.
Naktam haoushyami devecha eka bilvam shivarpanam.

Ramalinga pratistha cha vaivahika krutam tatha.
Tatakadi cha santanam eka bilvam shivarpanam.

Akhanda bilva patram cha ayutam shiva poojanam.
Krutam nama sahasrena eka bilvam shivarpanam.

Umaya sahadevesha nandi vahana meva cha.
Bhasma lepana sarvangam eka bilvam shivarpanam.

Salagrameshu vipranam tatakam dasha koopayo.
Yagyakoti saharacha eka bilvam shivarpanam.

Dantikoti sahasreshu ashwamedha shatakratau.
Kotikanya mahadanam ekabilvam shivarpanam.

Bilvanam darshanam punyam sparshanam papa nashanam.
Aghora papa samharam eka bilvam shivarpanam.

Sahasra veda patheshu brahma sthapana muchyate.
Aneka vrata kotinam eka bilvam shivarpanam.

Annadana sahasreshu sahasropanayanam tatha.
Aneka janma papani eka bilvam shivarpanam.

Bilvashhtakamidam punyam yah patheth shivasannidhau.
shivalokamavapnoti eka bilvam shivarpanam.

विडियो

श्री शिव बिल्वाष्टकम (Shri Shiv Bilwashtakam) यूट्यूब विडियो हमने निचे दिया हुआ है. इससे आप सब शिव भक्तों को श्री बिल्वाष्टकम का पाठ सही उच्चारण के साथ करने में सहायता प्राप्त हो सकेगी.

श्री शिव बिल्वाष्टकम

विडियो श्रोत यूट्यूब

Shiv Bilvashtakam

video source YouTube

बिल्वाष्टकम का पाठ कैसे करें?

  • सोमवार के दिन को महादेव शिव की आराधना के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता है. इस कारण से बिल्वाष्टकम (Bilwashtakam) का पाठ सोमवार के दिन करना अत्यंत ही शुभ माना जाता है.
  • इसके अलावा श्रावण महीने को शिव का सबसे प्रिय माह माना गया है. इस कारण से सम्पूर्ण श्रावण महीने में बिल्वाष्टकम का पाठ करना अत्यंत ही शुभ माना गया है.
  • अन्य दिनों में भी श्री बिल्वाष्टकम का पाठ किया जा सकता है.
  • प्रातः काल और संध्या काल के समय को किसी भी मंत्र या स्तोत्र के पाठ के लिए उत्तम माना जाता है.
  • सम्पूर्ण रूप से स्वच्छ और पवित्र होकर ही श्री बिल्वाष्टकम का पाठ करें.
  • महादेव शिव की सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ आराधना करें.
  • शिवलिंग पर बिल्वपत्र अर्पित करें.

बिल्वाष्टकम का महत्व (Importance of Bilwashtakam)

  • श्री बिल्वाष्टकम (Shree Bilvashtakam) को महादेव शिव के एक अत्यंत ही शुभ और शक्तिशाली स्तोत्रों में से एक माना जाता है.
  • महादेव शिव की आराधना और स्तुति के लिए बिल्वाष्टकम का पाठ करना अत्यंत ही मंगलकारी होता है.
  • बिल्वाष्टकम में बिल्वपत्र और बिल्व बृक्ष की महिमा का वर्णन किया गया है.
  • बिल्वपत्र महादेव शिव को अत्यंत ही प्रिय है.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बिल्वपत्र शिव को अर्पित करने से मनुष्य को महादेव शिव शंकर की परम कृपा की प्राप्ति होती है.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बिल्व बृक्ष के दर्शन और स्पर्श मात्र से मनुष्य के सात जन्म के पाप कट जातें हैं.
  • महादेव शिव को बिल्वपत्र अर्पण करने से मनुष्य के समस्त पाप नष्ट हो जातें हैं और शिव भक्त को शिव भगवान की परम कृपा की प्राप्ति होती है.
बिल्वाष्टकम के माध्यम से किस भगवान की स्तुति की जाती है?

बिल्वाष्टकम के माध्यम से महादेव शिव की स्तुति की जाती है.

श्री बिल्वाष्टकम में किसकी महिमा का वर्णन किया गया है?

श्री बिल्वाष्टकम में बिल्वपत्र और बिल्वबृक्ष की महिमा का वर्णन किया गया है.

सम्पूर्ण श्रद्धा और मन में शिव के प्रति अखंड बिस्वास के साथ श्री शिव बिल्वाष्टकम स्तोत्र (Shri Shiv Bilwashtakam Stotra) का पाठ करें. महादेव शिव औघरदानी है. आप सबकी समस्त शुभ मनोकामना को अवस्य पूर्ण करेंगे.

किसी भी प्रकार के सुधार, सुझाव और अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं.

एक बार सम्पूर्ण भक्ति भाव के साथ महादेव शिव की जय जयकार करें. हर हर महादेव.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.