Shiv Chalisa : शिव चालीसा हिंदी में पाठ करने के लिए सबसे बेस्ट

Shiv Chalisa (शिव चालीसा हिंदी में ) – अगर आपको शिव चालीसा का हिंदी में पाठ करना है तो यह बेस्ट है. यहाँ हमने शिव चालीसा को हिंदी में प्रकाशित किया हुआ है.

बड़े और पढने में आसान अक्षरों में हमने शिव चालीसा का यहाँ प्रकाशन किया हुआ है.

हमने इस पोस्ट में शिव चालीसा का विडियो भी दिया हुआ है.

महाशिवरात्रि | Mahashivratri के पावन अवसर पर शिव चालीसा, Dwadash Jyotirling Stotram | द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम्, Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम आदि का पाठ करना अत्यंत ही शुभ फलदायक सिद्ध होता है.

इस पोस्ट में प्रकाशित सामग्रियों की सूचि निचे दी हुई है.

चलिए श्रद्धापूर्वक भगवान भोलेनाथ शिव शंकर की आराधना के लिए शिव चालीसा का पाठ आरम्भ करतें हैं.

Shiv Chalisa | शिव चालीसा

shiv

|| श्री शिव चालीसा ||

॥ दोहा ॥

जय गणेश गिरिजा सुवन,
मंगल मूल सुजान ।

कहत अयोध्यादास तुम,
देहु अभय वरदान ॥

॥ चौपाई ॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला ।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला ॥

भाल चन्द्रमा सोहत नीके ।
कानन कुण्डल नागफनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये ।
मुण्डमाल तन क्षार लगाए ॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे ।
छवि को देखि नाग मन मोहे ॥

मैना मातु की हवे दुलारी ।
बाम अंग सोहत छवि न्यारी ॥

कर त्रिशूल सोहत छवि भारी ।
करत सदा शत्रुन क्षयकारी ॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे ।
सागर मध्य कमल हैं जैसे॥

कार्तिक श्याम और गणराऊ ।
या छवि को कहि जात न काऊ ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा ।
तब ही दुख प्रभु आप निवारा ॥

किया उपद्रव तारक भारी ।
देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी ॥

तुरत षडानन आप पठायउ ।
लवनिमेष महँ मारि गिरायउ ॥

आप जलंधर असुर संहारा।
सुयश तुम्हार विदित संसारा ॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई ।
सबहिं कृपा कर लीन बचाई ॥

किया तपहिं भागीरथ भारी ।
पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी ॥

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं ।
सेवक स्तुति करत सदाहीं ॥

वेद माहि महिमा तुम गाई ।
अकथ अनादि भेद नहिं पाई ॥

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला ।
जरत सुरासुर भए विहाला ॥

कीन्ही दया तहं करी सहाई ।
नीलकण्ठ तब नाम कहाई ॥

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा ।
जीत के लंक विभीषण दीन्हा ॥

सहस कमल में हो रहे धारी ।
कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी ॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई ।
कमल नयन पूजन चहं सोई ॥

Shiv Chalisa in Hindi

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर ।
भए प्रसन्न दिए इच्छित वर ॥

जय जय जय अनन्त अविनाशी ।
करत कृपा सब के घटवासी ॥

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै ।
भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै ॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो ।
येहि अवसर मोहि आन उबारो ॥

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो ।
संकट ते मोहि आन उबारो ॥

मात-पिता भ्राता सब होई ।
संकट में पूछत नहिं कोई ॥

स्वामी एक है आस तुम्हारी ।
आय हरहु मम संकट भारी ॥

धन निर्धन को देत सदा हीं ।
जो कोई जांचे सो फल पाहीं ॥

अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी ।
क्षमहु नाथ अब चूक हमारी ॥

शंकर हो संकट के नाशन ।
मंगल कारण विघ्न विनाशन ॥

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं ।
शारद नारद शीश नवावैं ॥

नमो नमो जय नमः शिवाय ।
सुर ब्रह्मादिक पार न पाय ॥

जो यह पाठ करे मन लाई ।
ता पर होत है शम्भु सहाई ॥

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी ।
पाठ करे सो पावन हारी ॥

पुत्र होन कर इच्छा जोई ।
निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई ॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे ।
ध्यान पूर्वक होम करावे ॥

त्रयोदशी व्रत करै हमेशा ।
ताके तन नहीं रहै कलेशा ॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे ।
शंकर सम्मुख पाठ सुनावे ॥

जन्म जन्म के पाप नसावे ।
अन्त धाम शिवपुर में पावे ॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी ।
जानि सकल दुःख हरहु हमारी ॥

॥ दोहा ॥

नित्त नेम उठि प्रातः ही,
पाठ करो चालीसा ।

तुम मेरी मनोकामना,
पूर्ण करो जगदीश ॥

मगसिर छठि हेमन्त ॠतु,
संवत चौसठ जान ।

स्तुति चालीसा शिवहि,
पूर्ण कीन कल्याण ॥

भगवान शिव की स्तुति के लिए – शंकर भगवान की आरती – Shankar Bhagwan Ki Aarti

Om Jai Shiv Omkara Aarti | ॐ जय शिव ओमकारा आरती

विडियो

शिव चालीसा (Shiv Chalisa) यूट्यूब विडियो हमने इस पोस्ट में दिया हुआ है. ताकि आप सब सही उच्चारण और भक्तिपूर्वक श्री शिव चालीसा का पाठ कर सकें. विडियो देखने के लिए प्ले बटन को दबाएँ.

शिव चालीसा

शिव चालीसा ऑडियो MP3

श्री शिव चालीसा ऑडियो Mp3 हमने यहाँ दिया हुआ है. आप प्ले बटन दबाकर इसे सुन सकतें हैं.

श्री शिव चालीसा ऑडियो

ऑडियो सोर्स – साउंडक्लाउड

शिव चालीसा पाठ करने की विधि

  • भगवान शिव की आराधना के लिए किसी भी दिन शिव चालीसा (Shiv Chalisa) का पाठ किया जा सकता है.
  • सोमवार को महादेव शिव के आराधना के लिए उत्तम माना गया है. इस कारण से सोमवार को शिव चालीसा का पाठ करना बहुत ही शुभ फलदायी होता है.
  • इसी तरह श्रावण महीने को शिव के सबसे उत्तम महीनें के रूप में जाना जाता है. इस कारण से श्रावण महीने में रोजाना नियमित रूप से शिव चालीसा का पाठ करें.
  • भगवान शिव की आराधना के लिये तन और मन दोनों की पवित्रता का सम्पूर्ण ध्यान रखें.
  • महादेव शिव का अभिषेक करने के पश्चात शिव चालीसा का पाठ करना सबसे उत्तम माना गया है.

Baglamukhi Chalisa – माँ बगलामुखी चालीसा (सम्पूर्ण)

शिव चालीसा का महत्व (Importance of Shiv Chalisa)

  • शिव चालीसा Shiv Chalisa का पाठ महादेव शिव की आराधना करने के लिए बहुत उत्तम माध्यम है.
  • श्री शिव चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही आसान है.
  • शिव चालीसा एक अत्यंत ही सिद्ध और प्रभावशाली श्लोकों का संग्रह है.
  • श्री शिव चालीसा में महादेव शिव के गुणों और महिमा का सुंदर वर्णन किया गया है.
  • शिव चालीसा के पाठ मात्र से ही मनुष्य को आत्मिक शान्ति का अनुभव होता है.
  • महादेव शिव की परम और पावन कृपा पाने के लिए शिव चालीसा का पाठ एक बहुत ही सरल माध्यम है.
  • शिव चालीसा में महादेव शिव के आराधना के 40 श्लोकों का संकलन किया गया है.

इस पोस्ट में बस इतना ही. आप सब अपने अनमोल विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिखें. अच्छे कमेंट को हम नाम के साथ इस साईट पर प्रकाशित करेंगे.

सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ शिव जी की आराधना करतें रहें.

भगवान शिव आप पर कृपा करें. हर हर महादेव.

कुछ अन्य प्रकाशन –

Batuk Bhairav Chalisa | बटुक भैरव चालीसा

Bhairav Chalisa | भैरव चालीसा

Sita Chalisa | सीता चालीसा

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.