Mahesh Navami 2023 | महेश नवमी कब है? माहेश्वरी उत्सव

Mahesh Navami 2023 | महेश नवमी 2023 | माहेश्वरी उत्सव – इस पोस्ट में हम महेश नवमी के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे. महेश नवमी कब है? महेश नवमी 2023 तारीख तथा महेश नवमी की विशेषता आदि.

नमस्कार, स्वागत है आप सबका सोनाटुकु डॉट कॉम पर.

महेश नवमी माहेश्वरी समाज का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार या उत्सव है. इस उत्सव में मुख्य रूप से महादेव शिव जिन्हें महेश भी कहा जाता है, और माता पार्वती की आराधना, स्तुति और पूजा की जाती है.

महेश्वरी समाज की उत्पति श्री महेश (महादेव शिव) और आदिशक्ति माता पार्वती के आशीर्वाद से ही हुई है. इसके पीछे की कथा के बारे में हम आगे इस पोस्ट में जानकारी प्राप्त करेंगे.

चलिए अब हम सब सबसे पहले साल 2023 में महेश नवमी कब है? (Mahesh Navami 2023) के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

Mahesh Navami 2023 | महेश नवमी कब है?

mahesh navami

महेश नवमी का त्यौहार प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ महीने की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मनाई जताई है.

साल 2023 में महेश नवमी का त्यौहार 29 मई 2023, दिन सोमवार को मनाई जायेगी.

महेश नवमी 2023 तारीख29 मई 2023, सोमवार
Mahesh Navami 2023 date29 May 2023, Monday

चलिए अब हम सब ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष नवमी तिथि के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष नवमी तिथि की जानकारी

जैसा की आप लोगों को जानकारी है की महेश नवमी का त्यौहार प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मनाई जाती है.

इस कारण से हमने यहाँ ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय की जानकारी दी हुई है.

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष नवमी तिथि प्रारंभ28 जून 2023, रविवार
09:56 am
ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष नवमी तिथि समाप्त29 मई 2023, सोमवार
11:49 am

महेश नवमी का महत्व (Importance of Mahesh Navami)

  • महेश नवमी माहेश्वरी समाज का एक अत्यंत ही प्रमुख उत्सव है.
  • धार्मिक मान्यता के अनुसार इसी दिन माहेश्वरी समाज की वंशोत्पत्ति हुई थी.
  • इस संबंद्ध में मान्यता के अनुसार महादेव शिव और माता पार्वती की कृपा से, 72 क्षत्रिय उमरावों को ऋषि के श्राप से मुक्ति मिली थी.
  • ऋषि के श्राप के कारण ये 72 क्षत्रिय उमराव पत्थरवत हो चुके थे.
  • महादेव शिव और माता पार्वती ने इन्हें श्राप मुक्त करते हुए नया जीवनदान दिया था.
  • महादेव शिव की आज्ञानुसार ये माहेश्वरी कहलाये.
  • इस कारण से माहेश्वरी समाज में इस दिन की अत्यंत ही धार्मिक महता प्रदान की गयी है.
  • इस दिन भव्य रूप में उत्सव का आयोजन किया जाता है.
  • महेश नवमी के दिन महादेव शिव (महेश) और माता पार्वती की विशेष पूजा अर्चना की जाती है.

आज के इस पोस्ट में बस इतना ही. अगर आप कोई सुझाव देना चाहतें हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में अवस्य लिखें.

विशेष सुझाव या अन्य कुछ विशेष के लिए आप हमसे ईमेल पर भी संपर्क कर सकतें हैं.

कुछ अन्य प्रकाशन –

शंकर भगवान की आरती – Shankar Bhagwan Ki Aarti

Om Jai Shiv Omkara Aarti | ॐ जय शिव ओमकारा आरती

Shiv Chalisa : शिव चालीसा हिंदी में पाठ करने के लिए सबसे बेस्ट

Shiv Gayatri Mantra श्री शिव गायत्री मंत्र – अत्यंत शक्तिशाली शिव मंत्र

Sheesh Gang Ardhang Parvati शीश गंग अर्द्धांग पार्वती (शिव भजन)

Maha Shivratri ki Aarti – महाशिवरात्रि की आरती

Bilwashtakam | बिल्वाष्टकम – महादेव शिव की करें स्तुति

Dwadash Jyotirling Stotram | द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम्

आप सबको सोनाटुकु डॉट कॉम परिवार की तरफ से महेश नवमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.