Mokshda Ekadashi Vrat 2022 – मोक्षदा एकादशी व्रत 2022

Mokshda Ekadashi Vrat 2022, Date, Muhurt and Importance. मोक्षदा एकादशी व्रत 2022, तारीख, मुहूर्त और महत्व.

आज के इस पोस्ट में हम मोक्षदा एकादशी में बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे, मोक्षदा एकादशी कब है? तारीख, मुहूर्त, एकादशी तिथि कब प्रारंभ हो रही है? कब समाप्त हो रही है? मोक्षदा एकादशी का महत्व आदि.

मोक्षदा एकादशी का व्रत भगवान श्री विष्णु को समर्पित होता है. यह व्रत अत्यंत ही महत्वपूर्ण व्रत होता है. विष्णु भक्तों के लिए यह दिन बहुत ही महत्वपूर्ण दिन होता है.

बहुत से विष्णु भक्त सम्पूर्ण एकादशी का व्रत करतें हैं. उनके लिए यह एकादशी व्रत और भी महत्वपूर्ण होता है.

अब हम मोक्षदा एकादशी व्रत 2022 (Mokshda Ekadashi Vrat 2022) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे.

Mokshda Ekadashi Vrat 2022 Date – मोक्षदा एकादशी व्रत 2022 तारीख

Mokshda Ekadashi Vrat Kab Hai

मोक्षदा एकादशी का व्रत प्रत्येक वर्ष मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है.

इस साल यानी की 2022 में मोक्षदा एकादशी का व्रत 03 दिसम्बर 2022, दिन शनिवार और 04 दिसम्बर 2022, दिन रविवार को है.

मोक्षदा एकादशी 2022 तारीख03 दिसम्बर 2022, शनिवार
04 दिसम्बर2022, रविवार
Mokshda Ekadashi 2022 Date03 December 2022, Saturday
04 December 2022, Sunday

मोक्षदा एकादशी के दिन ही गीता जयंती (Geeta Jayanti) भी मनाई जाती है.

Ekadashi Aarti – एकादशी व्रत की आरती

अब हम एकादशी तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने के समय के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेतें हैं.

मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि प्रारंभ और समाप्त

मोक्षदा एकादशी का व्रत मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है. इस कारण से मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि के प्रारंभ और समाप्त होने की जानकारी प्राप्त करना अत्यंत ही आवस्यक है.

मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि प्रारंभ03 दिसम्बर 2022, शनिवार
05:39 am
मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि समाप्त04 दिसम्बर 2022, रविवार
05:34 am

Importance of Mokshda Ekadashi Vrat मोक्षदा एकादशी व्रत का महत्व

  • भगवान श्री विष्णु की आराधना और स्तुति के लिए मोक्षदा एकादशी का व्रत किया जाता है.
  • मोक्षदा एकादशी व्रत को करने से मनुष्य को अत्यंत ही पूण्य फल की प्राप्ति होती है.
  • मोक्षदा एकादशी का व्रत करने से मनुष्य को जीवन मरण के चक्र से मुक्ति मिल जाती है और श्री विष्णु की कृपा से मोक्ष की प्राप्ति होती है.
  • समस्त प्रकार के पितृ दोषों से मुक्ति मोक्षदा एकादशी के व्रत करने से मिल जाती है.
  • मनुष्य के किये सभी पाप कर्मों से मुक्ति मोक्षदा एकादशी के व्रत करने और श्री विष्णु से अपने किये गए पापों के लिए क्षमा याचना करने से मिल जाती है.
  • मोक्षदा एकादशी एक बहुत ही महत्वपूर्ण और धार्मिक दृष्टिकोण से शुभ दिन है.
  • इस दिन श्री विष्णु को भक्ति करना अत्यंत ही शुभ फलदायक होता है.
  • मोक्षदा एकादशी के दिन ही भगवान श्री विष्णु के अवतार भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था.
  • इस कारण से इस दिन गीता जयंती भी मनाई जाती है.
  • मोक्षदा एकादशी को मौना एकादशी और बैकुंठ एकादशी के नाम से भी जाना जाता है.

हमें आशा है की मोक्षदा एकादशी से संबंद्धित सभी आवस्यक जानकारी आपने प्राप्त कर ली होगी. अगर आप कोई सुझाव या सलाह देना चाहतें हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं.

मोक्षदा एकादशी से संबंधित कुछ जानकारी

मोक्षदा एकादशी व्रत कब किया जाता है?

प्रत्येक वर्ष मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी का व्रत किया जाता है.

2022 में मोक्षदा एकादशी व्रत कब है?

मोक्षदा एकादशी व्रत 2022 में 03 दिसम्बर 2022, दिन शनिवार और 04 दिसम्बर 2022, रविवार को है.

मार्गशीर्ष महीने को अन्य किन नामों से जाना जाता है.

मार्गशीर्ष महीने को अगहन, अग्रहायण और मगसर नामों से जाना जाता है.

कुछ अन्य प्रकाशनों को भी देखें –

Holi Kab Hai? होली कब है? सभी जानकारी

हनुमान जयंती कब है? Hanuman Jayanti Date Time puja vidhi

Nidhi

इस साईट पर प्रकाशित सभी धार्मिक प्रकाशनों को निधि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है. निधि त्योहारों, आरती, चालीसा मंत्र स्तोत्र आदि की अच्छी जानकारी रखती है. बहुत धार्मिक मान्याताओं वाली निधि हमारे इस सेगमेंट को अच्छे से देखती है.
View All Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.